होटों की लिपस्टिक के निशान / Hothon ki lipstick ke nishan

होटों की लिपस्टिक के निशान / Hothon ki lipstick ke nishan

एक कॉलेज़ की बहुर सारी लड़कियाँ शरारत करने के लिए अपने होटों पर लिपस्टिक लगाती थी और बाथरूम में जाकर वहाँ लगे शीशे पर अपने होटों के निशान छोड़ देती !

प्रिंसीपल परेशान था, उसे पता ही नहीं चल रहा था कि कौन सी लड़कियाँ यह शरारत करती हैं। प्रिंसीपल के बार बार चेतावनी देने के बावजूद वो लड़कियाँ शरारत से बाज नहीं आ रही थी।

एक दिन उसने सभी लड़कियों को इकट्ठे होने को कहा और गुस्से होते हुए कहा- तुम जानती हो सफाई करने वाले कर्मचारी के लिए रोज शीशे को साफ़ करना एक समस्या है, तुम को तो पता भी नहीं कि उसे इस ‘वैक्सी लिपस्टिक’ को साफ़ करने के लिए कितनी मेहनत करनी पड़ती है।

आगे प्रिन्सीपल बोला- आओ, तुम्हें बाथरूम में चलकर दिखाते हैं !

प्रिंसीपल ने सफ़ाईकर्मी को साथ लिया और कुछ लड़कियों को लेकर बाथरूम में गया, बोला- चलो एक एक कर के पहले वहाँ शीशे पर अपने होटों के निशान लगाओ।

कई लड़कियाँ चुपचाप गई और अपने होंठों की छाप शीशे पर लगा कर आई !

अब प्रिंसीपल ने सफाई वाले को कहा- अब तुम इस शीशे को साफ़ करके दिखाओ कि कितनी मुश्किल और मेहनत से ये दाग साफ़ होते हैं।

सफाई वाले ने टॉयलेट साफ़ करने वाला ब्रुश उठाया और उसे टॉयलेट क्लीनर लिक्विड में डुबोया और उससे शीशा साफ़ करने लगा !

वह उस कॉलेज़ में लड़कियों की शरारत का आखिरी दिन था, उसके बाद शीशे पर कभी भी लिपस्टिक के दाग नहीं दिखे !